Oct 18, 2010

कीस मोड़ से सुरूं करें......फ्हिर से ये ज़िन्दगी.


उस मोड़ से सुरु करें , फ्हिर ये ज़िन्दगी
हर सह जहाँ हसीं थी , हम तुम थे अजनबी
शायद ये वक़्त हमसे कोई चाल चल गया
रिश्ता वफ़ा का और ही रंगों मैं ढल गया

Saumendra Swain

Author & Editor

Has laoreet percipitur ad. Vide interesset in mei, no his legimus verterem. Et nostrum imperdiet appellantur usu, mnesarchum referrentur id vim.

0 comments: